Thursday , May 23 2019
Loading...

फेसबुक पर अपलोड हो गई 15 लाख लोगों के ईमेल कॉन्टैक्ट्स

फेसबुक इंक ने बुधवार को बोला है कि ऐसा हो सकता है कि उसने अंजाने  में मई, 2016 के बाद करीब 15 लाख यूजर्स की ईमेल आईडी को अपलोड कर दिया है. ये सोशल मीडिया कंपनी के सामने निजता को लेकर एक नयी समस्या बन सकती है. इससे पहले मार्च में कंपनी ने बोला था कि फेसबुक ने एक विकल्प के तौर पर पहली बार साइनअप करने वाले यूजर्स को ईमेल पासवर्ट वेरिफिकेशन को पेश करना बंद कर दिया था.

कंपनी ने बोला था कि ऐसे मामले सामने आए थे कि जब लोगों ने फेसबुक पर अकाउंट बनाया तो उनके ईमेल कॉन्टैक्ट्स अपलोड होने लगे. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक ने राइटर्स से बोला है, “हमारा अनुमान है कि शायद 15 लाख लोगों के ईमेल कॉन्टैक्ट्स अपलोड हो गए हैं. ये कॉन्टैक्ट्स किसी के साथ शेयर नहीं किए गए हैं  हम उन्हें डिलीट कर रहे हैं.

फेसबुक ने ये भी बोला कि जिन यूजर्स के कॉन्टैक्ट अपलोड हुए हैं, उन्हें इस बात की जानकारी दे दी जाएगी. कंपनी का कहना है कि गड़बड़ी को अच्छा कर लिया गया है.

इससे पहले बिजनेस इन्साइडर ने रिपोर्ट किया था कि जब यूजर्स अपना अकाउंट खोल रहे थे तब सोशल मीडिया कंपनी ने बिना उनकी अनुमति  बिना उन्हें जानकारी दिए उनके ईमेल कॉन्टैक्ट्स का प्रयोग किया था. रिपोर्ट के अनुसार जब कोई ईमेल पासवर्ड एंटर किया जाता, तो एक मैसेज आने लगता, जिसमें लिखा होता कि बिना अनुमति के कॉन्टैक्ट्स लिए जा रहे हैं.

फेसबुक को हाल ही में निजता से जुड़ी कई परेशानियों का सामना करना पड़ा है. जिसमें ये समाचार भी थी कि लाखों यूजर्स के पासवर्ड रीडेबल फॉर्मेट में उसके कर्मियों के इंटरनल सिस्टम में संग्रहित हैं. बीते वर्ष लंदन की पॉलिटिकल कंसल्टेंसी फर्म कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा फेसबुक के डाटा लीक के सामने आने के बाद पूरी संसार में हड़कंप मच गया था. इसके बाद कई जांच हुईं  फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने इसके लिए माफी भी मांगी.

उस दौरान फेसबुक ने बोला था कि उसे कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा डाटा चोरी की जानकारी नहीं थी, लेकिन फिर खुलासा हुआ कि फेसबुक को कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा यूजर्स की डाटा चोरी की पूरी जानकारी थी  कंपनी ने इसे दबाए रखा.

बताते चलें कि कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा फेसबुक के करीब 8.7 करोड़ यूजर्स का डाटा चोरी करने का खुलासा हुआ था. फेसबुक के इस डाटा लीक मामले की जांच कर रही फेडरल ट्रेड कमीशन (FTC) ने बोला था कि फेसबुक ने 2011 में तैयार हुए सेफगार्ड यूजर्स प्राइवेसी के नियमों का उल्लंघन किया है.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *