Friday , April 19 2019
Loading...

आजम खान के विवादित बयान पर जया प्रदा का पलटवार, कहा-उनका दिमाग जलील बातें करने लगा है

के प्रत्‍याशी आजम खान ने रविवार को पर दिए अपने विवादित बयान पर फिर रिएक्शन दी है अब उन्‍होंने बोला है, ‘मैं नौ बार रामपुर से विधायक रहा हूं मंत्री भी रहामुझे पता है कि क्‍या बोलना है अगर कोई यह साबित कर दे कि मैंने अपने बयान में किसी का नाम लिया या किसी का अपमान किया तो मैं चुनाव से अपने कदम पीछे खींच लूंगा ‘

वहीं आजम खान के विवादित बयान पर जया प्रदा ने पलटवार करते हुए बोला कि उन्‍होंने मुझे गाली दी, मैं उस जुबान को बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं बेटियों के जुल्म के विरूद्ध लोगों को लड़ना होगा एक वोट भी आजम खान को नहीं जाना चाहिए अखिलेश यादव के लिए जया बोली उनका दिमाग जलील बातें करने लगा है जया प्रदा ने बोला कि अखिलेश तुम्हारे अंदर भी संस्कार समाप्त हो गए हैं, जिस नेता के साथ तुम रहते-रहते जिस संगत में रहते हो, तुम्हारा भी वही दिमाग जलील बातें करने लगा है

जया प्रदा ने लोगों से बोला कि मेरी तकलीफ को सुनिए लोगों को मुझसे दुश्मनी क्यों हैं, ये मुझे पता नहीं है उन्‍होंने शाहाबाद की तकरीर में मुझे बहुत गाली दी है एक औरत होकर मैं वो बातें नहीं कर पा रही हूं आपको वीडियो देखना होगा भाई होने पर लानत है आपके घर में बहन है आपके घर में बहू है आपके घर में मां है आपकी बहन  बेटी को वह गाली देते रहेंगे तो क्या आप चुप रहेंगे

उन्‍होंने बोला कि ऐसी गंदी जुबान, मेरी मां ने मुझे संस्कार दिया इसलिए मैं उस जुबान को बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं ये सीमा पार कर दिया है अगर मुझे बहन समझते हैं, मुझे बेटी समझते हैं तो मैं आपसे अपील करती हूं कि बेटियों के जुल्म के विरूद्ध आपको लड़ना होगा

बता दें कि रामपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए आजम खान ने रविवार को बिना नाम लिए भाजपा उम्मीदवार जया प्रदा पर निशाना साधते हुए बोला था कि जिसको हम अंगुली पकड़कर रामपुर लाए, आपने 10 वर्ष जिनसे अपना प्रतिनिधित्व कराया उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए मैं 17 दिनों में पहचान गया था कि इनके नीचे का अंडरवियर खाकी रंग का है इस रैली में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव भी मौजूद थे उनके इस बयान पर भाजपा ने सख्‍त ऐतराज जताते हुए माफी की मांग की है

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *